logo
add image

मान लिया तो हार है और ठान लिया तो जीत-संत ललितप्रभ

मल्हारगढ़ के देवरा चौक में राष्ट्रसंतों का किया गया स्वागत एवं प्रवचन का हुआ आयोजन

मल्हारगढ़। राष्ट्रसंत ललितप्रभ महाराज ने कहा कि यह न सोचें कि कितने दिन जिएँ, बल्कि यह सोचें कि कैसे जिएँ। खुशियों भरा एक लम्हा भी खज़़ाने जैसा लगता है, पर गम भरा एक साल भी अंधेरी गुफा में भटकने जैसा लगता है। जि़दगी जीने का मकसद खास होना चाहिए, अपने आप पर हमें विश्वास होना चाहिए। जीवन में खुशियों की कमी नहीं है, बस, उन्हें मनाने का सही अंदाज़ होना चाहिए। हर समय इतने व्यस्त रहिए कि चिंता करने की फुर्सत ही न मिले। विश्वास रखिए : जो चोंच देता है वह चुग्गा अवश्य देता है। आप प्रसन्न रहेंगे, तो आप अपने लोगों को भी प्रसन्न करने में कामयाब हो जाएँगे। उदास रहेंगे तो सारा माहौल गमगीन होने लग जाएगा।
संत प्रवर शनिवार को देवराज चौक स्थित न्यू कॉम्पलेक्स में आयोजित प्रवचन कार्यक्रम में श्रद्धालु भाई बहनों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हार और जीत का सम्बन्ध हमारी सोच पर है, मान लिया तो हार होगी और ठान लिया तो जीत। कोई आपके खिलाफ दो टेढ़े शब्द बोले तो बुरा न मानें, क्योंकि पत्थर उक्सर उसी पेड़ पर मारे जाते हैं, जिस पर मीठे फल लदे होते हैं। आप जब भी बोलें, धीमें और धैर्य से बोलें, आपकी वाणी औरों के दिलों में प्यार और जिज्ञासा का झरना बहाएगी। शीशा और रिश्ता दोनों एक जैसे होते हैं। पत्थर मारने से शीशा टूटता है और टेढ़ा बोलने से रिश्ता। अदब से बोलिए और सम्हलकर चलिए, शीशा और रिश्ता दोनों सुरक्षित रहेंगे। पत्थर मारने से सिर फूटता है और लाठी मारने से कमर टूटती है, पर टेढ़ा शब्द बोलने से दिल भी टूटता है और रिश्ता भी। गलती सबसे होती है और गुस्सा सबको आता है, फिर बुरा मानने की बजाय क्यों न शांति और सुधार की किरण तलाशी जाए।
उन्होंने कहा कि लोग बड़े विचित्र होते हैं : खुद से गलती हो जाए तो समझौता चाहते हैं वहीं दूसरों से गलती हो जाए तो इंसाफ की माँग करते हैं। सुधार तब होगा जब हम दोनों के लिए इंसाफ चाहें।
मन में दूषित विचार की लहर उठे तो तत्काल उसकी दिशा बदल दीजिए। अगर ये लहरें सुनामी का रूप ले बैठी तो जीवन का जहाज ही डूब जाएगा।
स्वर्ग के रास्ते पर कदम बढ़ाने के लिए अपना स्वभाव अच्छा बनाइये। गंदे स्वभाव से देवता तो क्या, आपके पड़ौसी भी नफरत करते हैं। ईश्वर का अनुग्रह पाने के लिए निष्पाप रहिए और निष्पाप होने के लिए सरलता को सीढ़ी बना लीजिए। स्वर्ग के राज्य में आखिर बच्चे बनकर ही प्रवेश पाया जा सकता है। किसी पर झल्लाने की बजाय उसे काम करने की तहजीब सिखाएँ। डाँटना तभी चाहिए जब कोई एक ही गलती को तीन बार दोहरा बैठे। चिंता और उत्तेजना की आग का त्याग कीजिए। आखिर किसी भी जलती डाल पर शांति की चिडिय़ा नहीं बैठा करती।

उन्होंने कहा कि अवसाद से बचने की सर्वेश्रेष्ठ औषधि है — 'हर समय प्रसन्न रहिए। चाहे जैसे हालात हो जाएँ, अपनी प्रसन्नता को किसी के पास गिरवी मत रखिए।भाई-भाई के बीच मनमुटाव और स्वार्थ-भावना का त्याग कीजिए, नहीं तो आपका घर नरक बन जाएगा। भाई के प्रति प्रेम और त्याग की भावना अपनाइए, घर का स्वर्ग सुरक्षित रहेगा।कृपया धीरज रखिए। हमारा सिर माचिस की तीली नहीं है कि छोटी-सी रगड़ लगे और देखते-ही-देखते आग बबूला हो उठे।

सात दिन के लिए अपने चिड़चिड़ेपन का त्याग कीजिए और फिर देखिये कि आपका आदर पहले से कितना बढ़ा है।याद रखिए - कर्म तेरे अच्छे हैं तो किस्मत तेरी दासी। नीयत तेरी साफ है तो घर में मथुरा-काशी॥

इससे पूर्व संत ललितप्रभ महाराज और मुनि शांतिप्रिय सागर महाराज के देवरा चौक पहुंचने पर श्रद्धालु भाई बहनों द्वारा स्वागत और अभिनंदन किया गया। प्रवचन कार्यक्रम में आदि अनेक लोग उपस्थित थे।

रविवार को पिपलिया मंडी में होंगे सत्संग प्रवचन- संत प्रवर रविवार को सुबह 9 बजे पिपलिया मंडी में पुराना गाड़ी अड्डा में जीवन को कैसे स्वर्ग बनाएं विषय पर सत्संग एवं प्रवचन करेंगे।

Top