logo
add image

लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को किया संबोधित, पढ़ें उनके भाषण की मुख्य बातें

पीएम मोदी ने कहा था कि गुलामी के कालखंड में आजादी के लिए आंदोलन चला है, 15 अगस्त का दिन उस आंदोलन का और शहीदों की भावनाओं का प्रतीक है. ठीक उसी तरह राम मंदिर के लिए कई-कई सदियों तक पीढ़ियों ने प्रयास किया है, आज का ये दिन उसी तप-संकल्प का प्रतीक है.

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ऐतिहासिक लाल किले की प्राचीर से तिरंगा फहराया। तिरंगा फहराने के बाद प्रधानमंत्री ने राष्ट्र ध्वज को सलामी दी। बता दें कि मेजर श्वेता पांडे राष्ट्रीय ध्वज फहराने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सहायता की। लाल किले पर प्रधानमंत्री को गॉर्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

झंडा फहराने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन की शुरूआत की और स्वतंत्रता सेनानियों और सुरक्षा बलों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि आज जो हम स्वतंत्र भारत में सांस ले रहे हैं, उसके पीछे मां भारती के लाखों बेटे-बेटियों का त्याग, बलिदान और मां भारती को आजाद कराने के लिए समर्पण है। आज ऐसे सभी स्वतंत्रता सेनानियों को, वीर शहीदों को नमन करने का ये पर्व है।   आपके पास गर्व करने के लिए बहुत कुछ है
प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना के समय में, अपने जीवन की परवाह किए बिना हमारे डॉक्टर्स, नर्से, पैरामेडिकल स्टाफ, एंबुलेंस कर्मी, सफाई कर्मचारी, पुलिसकर्मी, सेवाकर्मी, अनेकों लोग, चौबीसों घंटे लगातार काम कर रहे हैं। ऐसे सभी कोरोना वॉरियर्स को भी मैं आज नमन करता हूं।

प्रधानमंत्री को सलामी देने वाले गॉर्ड ऑफ ऑनर दस्ते में थल सेना, नौसेना, वायुसेना और दिल्ली पुलिस से एक-एक अधिकारी और 24 जवान शामिल रहे। लाल किले में झंडा फहराने से पहले प्रधानमंत्री राजघाट पहुंचे। वहां पर उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी।
लाल किले पर इस वर्ष 74वें स्वतंत्रता दिवस समारोह के लिए बहुस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है और कार्यक्रम में सामाजिक दूरी के नियमों का पालन सुनिश्चित करने के लिए सभी उपाय किए गए हैं। पुलिस ने बताया कि सुरक्षा के लिए 300 से अधिक कैमरे लगाए गए हैं और उनकी फुटेज पर नजर रखी जा रही है। लालकिले में लगभग 4,000 सुरक्षाकर्मी तैनात हैं और वे सामाजिक दूरी के नियमों का पालन कर रहे हैं। रेलवे स्टेशनों और उनके आसपास की सुरक्षा भी कड़ी कर दी गई है।

Top