logo
add image

अज्ञात कारणों के चलते युवक ने लगाई फांसी

खोर (कोमल दास बैरागी)। ग्राम खोर में एक युवक ने अज्ञात कारणों के चलते फांसी के फंदे पर लटक कर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली।
प्राप्त जानकारी के अनुसार गांव खोर में पंचायत के पीछे स्थित मकान में भवानी सिंह पिता देवी सिंह चुंडावत उम्र लगभग 40 वर्ष मंगलवार बुधवार के बीच की रात घर के पास बने शौचालय के सामने। छत के कड़े से लटक कर आत्महत्या कर ली। घटना की जानकारी प्रात: 5 बजे मृतक की पत्नी को तब लगी जब वह कमरे से बाहर निकली तो शौचालय के सामने अपने पति को फंदे पर लटका देख कर चिल्लाने लगी आवाज सुन पास में रहने वाले लोग भी आ गए मृतक के बच्चे भी उठ कर बाहर आ गए तथा शव को पकड़कर चीखने चिल्लाने लगे ।
यह देख पड़ोसियों ने शव को फंदे से नीचे उतारा तथा पुलिस को सूचना दी। पिछले 20 वर्षों से खोर में रहकर अल्ट्राटेक सीमेंट में जगदीश ट्रेडिंग कंपनी के अंतर्गत पेकिंग प्लांट में सिमेन्ट लोडिंग का कार्य करता था। मृतक के साथ कार्य करने वाले मजदूरों ने जानकारी देते हुए बताया कि पिछले कुछ समय से कंपनी द्वारा प्लांट में सीमेंट लोड करने वाले मजदूरों को समय पर ड्यूटी पर नहीं रखने से सभी मजदूर परेशान हो गए । तथा मजदूरों ने कंपनी के खिलाफ जिला कलेक्टर को भी एक आवेदन दिया था ।
उसके बाद प्रशासन के दबाव के चलते कंपनी द्वारा 250 मजदूरों जिसमें से 120 स्थाई एवं 130 बदली में कार्य करते हैं 120 को नियमित ड्यूटी देना शुरू कर दी लेकिन बदली के लोडर्स को ड्यूटी नहीं देने से आर्थिक रूप से काफी परेशानी का सामना कर रहे हैं। उसी कारण उनके साथी मजदूर को फांसी लगाकर आत्महत्या करने पर मजबूर होना पड़ा। आगे किसी मजदूर को ऐसा कदम नहीं उठाना पड़े इसलिए साथी मजदूरों एवं परिजनों ने शव का पोस्टमार्टम करवाकर अल्ट्राटेक सीमेंट के मेन गेट के सामने रख दिया। जानकारी मिलने पर जिला प्रशासन अधिकारियों में से नगर पुलिस अधीक्षक नरेंद्र सिंह सोलंकी एवं जावद एस डी एम के .के. मालवीय जावद एसडीओपी टी.सी. पवार जावद थाना प्रभारी ओ. पी. मिश्रा नया गांव चौकी प्रभारी आर.पी. मिश्रा सहायक उपनिरीक्षक शिवलाल कुलमी सहित कई पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे तथा मृतक के परिजनों एवं कंपनी के अधिकारियों के बीच सुलह करवाने का प्रयास किया लेकिन शाम 7:00 बजे तक कोई भी किसी भी नतीजे तक नहीं पहुंचे। तथा मृतक का शव शाम तक फैक्ट्री गेट के सामने रखा रहा। और आखिर में 7 बजे बाद परिजन एवं कंपनी मैनेजमेंट के बिच कोई समझोता नही हुआ और परिजनों द्वारा अल्ट्राटेक सिमेन्ट प्रबन्धक एवम् मैनेजमेंट तथा जगदीश ट्रेडिंग कंपनी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाने हेतु मौके पर उपस्थित नयागाँव चौकी प्रभारी आर .पी. मिश्रा को आवेदन दिया गया। तथा शव को एम्बुलेंस से उसके गाँव ले गए।

परिजनों की मांग 20 लाख रुपए की थी जिस पर कम्पनी ने मना कर दिया की यह केस प्लांट से बाहर का है। अगर प्लांट के अंदर होता तो जो भी होता हम करते फिर भी कम्पनी द्वारा मृतक के बच्चों को पढने के लिए तथा एक लाख रुपए तक की सहायता देने की बात कही जिसे परिजनों ने मना कर दिया एवं मैनेजमेंट तथा ठेकेदार के खिलाफ कानूनी कार्यवाही हेतु आवेदन दिया गया। जिस पर पुलिस पूरी निष्पक्षता से जाँच करेंगी।
– टी . सी . पँवार ( एस डी ओ पी ) जावद।
हमने मैनेजमेंट के सामने बात रखी की मृतक आपके प्लांट में पिछले 20 साल से कार्य कर रहा था। तथा पिछले कुछ समय से ड्यूटी को लेकर आर्थिक रूप से बहुत परेशान था। जिससे उसे मजबूरन आत्महत्या जैसा कदम उठाना पड़ा। इसलिए कम्पनी द्वारा मृतक के बच्चों की पढ़ाई का खर्च एवम् आर्थिक सहायता हेतु 5 लाख रुपए तथा बच्चे के बड़े होने पर उसे नोकरी देने की बात कही जिस पर कम्पनी द्वारा मात्र एक लाख पच्चीस हजार सहायता राशि एवम् बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाने की बात कही जिस पर सहमति नही बनी और हमने कंपनी मैनेजमेंट एवम् ठेकेदार के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज करवाने का फैसला किया एवम् एक आवेदन नयागाँव चौकी प्रभारी को दिया गया।
– उदय सिंह चन्द्रावत पूर्व सरपंच ग्राम पंचायत खोर ।
इस विषय में मैनेजमेंट से बात करने की कोशिश करी लेकिन उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।


Top