logo
add image

लॉकडाउन के दौरान निजी बस मालिकों को लाखों का नुकसान

मुख्यमंत्री जी 3 माह का यात्रीकर की छूट दे ..श्री कुमठ

पिपलिया मंडी - कोरोना वायरस के कारण संपूर्ण भारत में लॉकडॉउन है 22 मार्च 2020 से क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी के आदेश से पूरे प्रदेश के साथ-साथ मंदसौर नीमच जिले की 700 से अधिक बसों के पहिए थमे हुए हैं जो बसे जहां खड़ी थी वहीं खड़ी हुई है जिससे निजी बस मालिकों को लाखों रुपए का नुकसान हो चुका है बावजूद इसके प्रदेश सरकार निजी बस मालिकों से यात्रीकर की राशि 30 अप्रैल तक जमा कराने के लिए दबाव बना रही है जबकि बसों के पहिए राज्य शासन व केंद्र शासन के निर्देश पर थमे हुए हैं तो फिर आखिर क्यों राज्य सरकार टैक्स वसूली करना चाहती है इस और क्षेत्र के सांसद और विधायक जनप्रतिनिधियों का कोई ध्यान नहीं है बस मालिकों को प्रत्येक बस पर प्रतिदिन तीन हजार के लगभग बीमा फिटनेस ब्याज व स्टाफ का खर्च हो रहा है परंतु शासन के नुमाइंदे आग में घी डालकर इसमें आहुति दे रहे हैं मुख्यमंत्री जी व मुख्य सचिव ट्रांसपोर्ट कमिश्नर महोदय को जल्द ही निर्देश करना चाहिए कि संपूर्ण भारत में लॉक डाउन है इस कारण बसों का संचालन बंद है इसलिए यात्री कर बस मालिकों से वसूलना नहीं है उन्हें राहत दी जाना अत्यंत आवश्यक है नीमच जिला बस मालिक एसोसिएशन के अध्यक्ष अजीत कुमठ ने बताया कि सरकार को अविलंब टैक्स फ्री जोन करना चाहिए प्रदेश सरकार एक तरफ सूत्र सेवा के नाम पर 40% सब्सिडी देकर यात्रियों के लिए बसे चलाकर बस मालिकों को प्रोत्साहित कर रही है दूसरी तरफ ग्रामीण जनता को ग्रामीण क्षेत्र से शहर तक दिन रात सुविधा देने के बाद भी प्रदेश सरकार द्वारा बस बस मालिकों के साथ प्रदेश सरकार द्वारा घोर अन्याय किया जा रहा है बस मालिकों की परेशानियों को देखते हुए 30 जून तक का परिवहन टैक्स माफ कर उन्हें राहत की सांस देना चाहिए।



{*अन्य राज्यों में 3 माह यात्री कर की छूट दी गई है* *श्री कोठारी* भाजपा जिला परिवहन प्रकोष्ठ पूर्व जिला संयोजक एवं *HM कोठारी के संचालक अनिल कोठारी ने नई विधा को बताया कि* भाजपा शासित अन्य प्रांतों जैसे गुजरात, हरियाणा में वहां के मुख्यमंत्रियों ने बस मालिकों के हित में उनके नुकसान की भरपाई के लिए गजट नोटिफिकेशन कर 3 माह के यात्री कर में छूट प्रदान की गई है उसी तरह मध्य प्रदेश के जन हितेषी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भी बस मालिकों की वाजिब मांग पर ध्यान देकर अप्रैल ,मई व जून 3 माह का यात्रीकर माफ करना चाहिए।}

Top