logo
add image

सैंपल लेने के पश्चात क्वारांटाइन नहीं करना प्रशासन की चूक :_श्री चावला

पिपलिया मंडी - जिला प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस को लेकर जो रिपोर्ट पेश की जा रही है उस में गड़बड़ी का अंदेशा जताते हुए भाजपा नेता और प्रदेश के पूर्व गृह मंत्री कैलाश चावला ने बताया कि सैंपल लेने के पश्चात जिस तरह इंदौर से रिपोर्ट पॉजिटिव आती है उसके पश्चात फिर भोपाल से रिपोर्ट नेगेटिव आना कहीं न कहीं इस मामले में गड़बड़ी का अंदेशा है और यह बात भी सामने आ रही है कि जिन लोगों के सैंपल ले लिए हैं वह भी खुले में घूम रहे हैं उन्हें भी प्रशासन द्वारा या जिला अस्पताल द्वारा क्वारंटाइन नहीं किया गया जिससे उनके संक्रमित होने की संभावना से और लोगों में संक्रमण फैलाने के लिए क्यों छोड़ा गया अब आवश्यकता है कि इस कोरोनावायरस पर युद्ध स्तर पर इनके संपर्क में आने वाले नागरिकों का पता लगाकर उन्हें क्वारेंटाइन किया जाए तथा उनके सैंपल लेकर जांच कराई जाए तब तक उनको क्वारेनंटाइन किया जाए उसके अलावा भी जिला प्रशासन द्वारा सभी नागरिकों का स्वास्थ्य परीक्षण यानी स्क्रीनिंग की जाए भीलवाड़ा की तर्ज पर जिससे कि नागरिकों में कोरोनावायरस को लेकर जो डर भय का माहौल है उसे दूर किया जा सके साथ ही आप ने मुख्यमंत्री को सारे मामले की जानकारी देते हुए कहां की जो रिपोर्ट 13 तारीख को बन गई वह रिपोर्ट 15 तारीख तक जिला प्रशासन के पास आती है इसमें इतना विलंब क्यों लग रहा है इसकी भी जिम्मेदारी तय की जाना चाहिए जिससे कि समय पर स्थिति को संभाला जा सके
श्री चावला ने आगे बताया कि जिन लोगों की रिपोर्ट पहले पॉजिटिव आई उनमें से फिर 2 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आना ऐसे समय लैब का यह व्यवहार आपराधिक कृत्य से कम नहीं इसकी जिम्मेदारी तय की जाना चाहिए इस सारे मामले की जानकारी मध्य प्रदेश शासन के चीफ सेक्रेटरी व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भी मेल कर अवगत कराया है

Top