logo
add image

और विधायक बच गए धोखाधड़ी से क्या हैं मामला देखे पूरी खबर

अनजान व्यक्ति ने मांगे थे मोबाइल पर महत्वपूर्ण दस्तावेज ’’ ’’ एस.पी. के नाम दिया शिकायती पत्र ’विधायक श्री परिहार की सजगता के चलते सायबर अपराधी अपने मंसूबो में सफल नहीं हुआ

नीमच।क्षेत्र में आये दिन साइबर अपराधों की घटनाए बढ़ती जा रही है। जिसमें हैकर द्वारा नेट बैंकिग की सम्पूर्ण जानकारी खाताधारक से लेकर उसके खाते से हजारो-लाखों रूपये की राशि ट्रंास्फर कर लेते है तथा थोडी सी असावधानी के चलते खाते धारक के मोबाइल पर केवल राशि निकाली जाने की सुचना ही मिल पाती है। ऐसे अपराधों में न तो बैंक और न ही पुलिस विभाग द्वारा खाता धारक की कोई मदद की जाती रही है तथा व केवल अपनी मेहनत से जमा की गई पूंजी को गवा ही बैठता है।
नीमच क्षेत्र के विधायक श्री दिलीपसिंह परिहार के साथ भी ऐसा ही एक मामला प्रकाश में आया है जिसमें श्री परिहार व उनके निज सहायक की सजगता व सतर्कता के कारण हैंकर अपने मंसूबों में सफल नही हो सका।
मिली जानकारी के अनुसार विधायक श्री परिहार के मोबाइल पर किसी अनजान व्यक्ति का फोन आया तथा उन्हें बताया गया कि विधानसभा से बोल रहा हॅु तथा आपके कुछ दस्तावेज नहीं आये है सो उपलब्ध करावें । जिसपर श्री परिहार ने अपने निज सहायक श्री लक्ष्मीनारायण जोशी का मोबाइल नम्बर देकर सम्पूर्ण जानकारी से अवगत करवाने की बात कही बाद में श्री जोशी के मोबाइल पर संबधित व्यक्ति ने 8388018518 मोबाइल नम्बर जो टू काॅलर पर श्रीवास्तव के नाम से दर्ज हैं का फोन आया तथा श्री परिहार का अधार कार्ड, पेन कार्ड व एटीएम के 16 अंको सहित रजिस्ट्रेशन नम्बर व छाया प्रति उक्त नम्बर पर वाॅटसअप पर जानकारी मांगी गई। जिसमें श्री जोशी ने संबधित व्यक्ति से उक्त दस्तावेज विधानसभा सचिवालय के किस कक्ष में भेजने की बात कही तो संबधित व्यक्ति द्वारा कहा गया कि विधानसभा में नही प्रदेश भाजपा कार्यालय पर किसी आलोक श्रीवास्तव के पास उक्त दस्तावेज भेजना है। कथनों मे विरोधाभास होने तथा शंका होने पर श्री जोशी ने तत्काल विधायक श्री परिहार को उक्त घटना का सम्पूर्ण ब्यौरा दिया। जिस पर विधायक श्री परिहार ने विधानसभा के अधिकारी श्री के.के. मनमानी से संपर्क साधने हेतु निर्देशित किया। श्री जोशी ने श्री मनमानी जी को फोन पर संबधित व्यक्ति से हुई चर्चा का पूरा विवरण दिया तथा शंकाष्पद मामला होनो बताया जिसपर श्री मनमानी द्वारा भी बताया गया कि इस तरह कि कोई भी जानकारी विधानसभा द्वारा नहीं मंगवाई गई है तथा संबधित व्यक्ति को भी कोई महत्वपूर्ण दस्तावेज देने से मना कर दिया।  बाद में निज सहायक श्री जोशी ने अम्बेडकर मार्ग स्थित स्टेट बैंक आॅफ इंडिया के मैनेजर से सम्पर्क किया तथा पूरे घटनाकर्म से अवगत करवाया गया।
विधायक श्री परिहार ने भी मामले की गंभीरता एवं आये दिन हो रहे सायबर अपराधो को दृष्टिगत रखते हुए जिले के पुलिस अधीक्षक के नाम लिखित शिकायती आवेदन देकर मामले की जांच पड़ताल करवाकर आपराधिक प्रकरण दर्ज करने का आग्रह किया।
विधायक श्री परिहार ने क्षेत्र की आम जनता से भी आग्रह किया है कि हैंकर आये दिन इस तरह कि घटनाओ का अंजाम देकर मेहनत से इकट्ठा कि गई जमा पूंजी को खाता धारक के खाते से उडा देते है। सभी खाता धारक अपने महत्वपूर्ण दस्तावेज किसी भी अनजान व्यक्ति को न दे तथा जरूरत पड़ने पर खाता धारक संबधित बैंक शाखा में जाकर संपर्क करे ताकि लुट की घटनाओं से बच सके।

Top