logo
add image

नम आंखो से जननेता श्री बंधवार को अंतिम विदाई

मंदसौर। शुक्रवार को नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार का पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलिन हो गया। इससे पहले दोपहर करीब 12.30 बजे बंधवार के निवास स्थान हनुमान नगर से उनकी अंतिम यात्रा प्रारंभ हुईए जो शहर के प्रमुख मार्गो से होती हुई शिवना बड़ी पुलिया स्थित श्मशान घाट पहुंची। अपने जननेता की एक झलक पाने के लिए पूरा शहर सड़कों पर उतर आया। क्या बच्चेए क्या वृद्धए क्या महिलाएं और क्या पुरूष सभी ने नम आंखो से विदाई देकर श्रद्धासुमन अर्पित किए। लोगों ने स्वेच्छा से दिनभर अपने.अपने प्रतिष्ठान बंद रखे।
प्रहलाद बंधवार की मौतए छोड़ गई सवाल
शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि मैंने घटना को लेकर रात में ही एक पत्र मुख्यमंत्री कमलनाथ को लिखा था। उनसे उच्चस्तरीय जांच करने का आग्रह किया था। केवल सतह पर रहकर मूल कारणों का पता नही लगाया जा सकता है। केवल ये कह देना कि ये भाजपा का अंदरूनी मामला है ये सिद्ध करता है कि सरकार घटना को गंभीरता से नही ले रही है। हम इस घटना को कांग्रेस.बीजेपी से जोड़कर नही देख रहे है। जो भी है वो पकड़ा जाएंए और वाकई में जो आरोपी है वो पकड़ा जाकर वास्तविक कारण सामने आना चाहिए। प्रहलाद जी का आचरणए स्वभाव और कर्म देखकर नही लगता कि उनकी हत्या कर दी जाएंघ् सीएम घटना को हल्के में ना लें। सरकार प्रदेश के साढ़े 7 करोड़ जनता की है।
सही दिशा में हो जांच
इस पूरी घटना को सतह तौर पर नही लिया जाएंए इसे गंभीरता से लेकर सही लोगों तक पहुंचा जाएं जो इस घटना में वास्तविक तौर पर शामिल है। केवल भाजपा नेता के साथ फोटों खींचाने से ये दावा नही किया जा सकता है कि वो पार्टी का कार्यकर्ता है। लेकिन मैं कोई सतही राजनिति नही करना चाहता हूं लेकिन सरकार को इंदौर और मंदसौर की घटना को गंभीरता लेना चाहिए इसमें लीपापोती नही करना चाहिए। इस तरह की घटना कानुन व्यवस्था की हालत आने वाले समय में और अधिक खराब कर देगी।
जनता के दिलो पर राज करते थे प्रहलाद जी. राकेशसिंह
गुरूवार को नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की अंत्येष्टि में भाग लेने पहुचे प्रदेश अध्यक्ष राकेशसिंह ने कहा कि घटना बहुत दुभाग्यपूर्ण है। प्रहलाद बंधवार केवल भाजपा के राजनेता नही लोगों के दिलों पर राज करने वाले समाजसेवक भी थे। उनकी नृशंस हत्या अत्यंत निंदनीय और दुर्भाग्यपूर्ण है। आज श्रद्धांजली का समय है लेकिन हम चुप बैठने वाले नही है। शनिवार को भाजपा पूरे प्रदेश में मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन कलेक्टर को सौंपा जाएगा। मैं भी डीजीपी को ज्ञापन सौंपूगां। शीघ्र ही दोषियों को पकड़कर कठोर से कठोर कार्रवाई की मांग करेंगे। एक के बाद एक प्रदेश में गंभीर घटनाए होती जा रही है। जो कानुन व्यवस्था बिगड़ रही हैए वो चिंता का विषय है।
भाजपा कार्यकर्ता उतरेंगे सड़को पर
15 वर्षा से प्रदेश में नक्सली गतिविधयां समाप्त हो चुकी है। ऐसे में एकाएक सरकार हिना कावरे पर हुए हमले के पीछे नक्सली का रोल माल रही है। सरकार का मानना है कि नक्सली सिर उठा रहे है। इंदौर में दिनदहाड़े एक व्यवसायी की हत्या होना और मंदसौर में हमारे कार्यकर्ता की हत्या हो गई। हत्यारा किसी पार्टी का नही होता है वो सिर्फ हत्यारा होता है। हत्यारा भाजपा का कार्यकर्ता नही है। उस पर पहले से ही कई मामले दर्ज है। इसलिए हमने उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। दोषी पर कड़ी कार्रवाई हों। अन्यथा प्रदेश का भाजपा कार्यकर्ता सड़क पर उतरने के लिए मजबुर होगा।
एक प्रश्न के जवाब में आपने कहा कि प्रदेश का मुख्यमंत्री जननेता नगर पालिका अध्यक्ष की हत्या के मामले को किसी पार्टी का अंदरूनी मामना मानता है तो इससे ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण नही हो सकता है। ये लचर कानुन व्यवस्था का एक उदाहरण है।

Top