logo
add image

कार्यकर्ता विचलित ना हो, कांग्रेस लाखों कार्यकर्ताओं और हजारों नेताओं का समूह है - श्रीकांठेड़

जावद। कांग्रेस का सफर 135 वर्ष पुराना है। इस पार्टी ने 72 वर्ष पहले तक आजादी के लिए लड़ाई लड़ी और बाद में आजाद एवं आधुनिक सर्वशक्तिमान भारत के लिए सतत संघर्ष किया है जो निरंतर जारी है। इन बीते वर्षो में अनेक संकट आए व गए। अनेक नए लोग जुड़े और छुटे, किंतु संघर्ष की यात्रा अनवरत जारी है। किसी एक के जाने से कांग्रेस का यह अभियान नहीं रुकेगा।
यह बात कहते हुए जिला कांग्रेस अध्यक्ष अजीत कांठेड़ ने वर्तमान घटना के संदर्भ में कांग्रेसजनों से आग्रह किया कि वह कतई विचलित ना हो। क्योकि कांग्रेस लाखों कार्यकर्ताओं और हजारों नेताओं का समूह है। जो कांग्रेस की स्थापना से आज तक अपनी विचारधारा के अनुरूप संविधान सम्मत, समुदाय व संस्कारों वाले महान भारत की स्थापना हेतु कटिबद्ध है।
सत्ता व सत्ता में पद हम कांग्रेसजनों के लिए कभी अंतिम लक्ष्य नहीं रहे। सत्ता व अवसर हमारे लिए वचन पत्रों के पालन के माध्यम मात्र है। हर क्षेत्र विशेष में हजारों कार्यकर्ताओं का समूह प्रतिदिन पार्टी की चिंता करता है, पार्टी मंच से जनता-जनार्दन की सेवा करता है। तब कहीं जाकर चुनाव में पार्टी को जीत हासिल होती है। विधानसभा-लोकसभा चुनाव में पार्टी की जीत उम्मीदवार की जीत कभी नहीं होती, यह हमारी विचारधारा आस्था व हमारे कार्यकर्ताओं द्वारा किए गए एकजुट अथक परिश्रम का परिणाम होता है।
श्री कांठेड़ ने आगे कहा कि कई बार पार्टी को सत्ता तक पहुंचने व सत्ता में बने रहने हेतु कड़ी परीक्षा से गुजरना पड़ता है। पार्टी के समक्ष हमेशा संकट रहता है। उम्मीदवारी किसी एक को ही नसीब होती है। सभी को न तो मंत्री बनाया जा सकता है ना मुख्यमंत्री। किंतु सरकार बनाना है, चलाना है तो एक को त्याग करना ही पड़ता है। आज अ को तो कल ब को अवसर मिलेगा। धैर्य के साथ प्रतीक्षा करना पड़ती है। लक्ष्य पार्टी की मजबूती और पार्टी के वायदों को पूरा करना ही होना चाहिये। ऐसे वातावरण में सम्मानीय श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गलत निर्णय कर लिया है। इसे तत्काल रुप से पार्टी को नुकसान हो सकता है। किंतु कांग्रेस अपनी विचारधारा अपने मूल्य अपनी अवधारणाओं को प्राथमिकता देती है। हम सत्ता में किसी व्यक्ति विशेष को पदों पर पहुंचाने के लिए चुनाव नहीं लड़ते है। चुनाव हम अपने वचन पत्र घोषणा की पूर्ति हेतु ही लड़ते है। समय बीतने पर श्री सिंधिया को गलती का एहसास होगा कि कांग्रेस से बेहतर कोई राजनीतिक दल इस लोकतांत्रिक व्यवस्था में नहीं है।
 हम अपने सपनों को, सर्वहारा वर्ग की भलाई की हमारी इच्छा को केवल कांग्रेस के माध्यम से ही पूरा कर सकते है। सभी कांग्रेसजनों से मेरा विनम्र आग्रह है कि कांग्रेस में अपनी अनन्य आस्था बनाए रखें। जितना हो आदरणीय श्रीमती सोनिया गांधी, श्री राहुल गांधी के नेतृत्व में निष्ठा बनाए रखें। सत्ता के अवसर हमें हमारी प्रमाणिकता से कतई विचलित नहीं कर सकते है।

Top