इस कारण अफगान के राष्ट्रपति ने अमिताभ की सुरक्षा में लगा दी पूरी सैन्य टुकड़ी, ऐसे कहलाए गए बॉलीवुड के शहंशाह

0
82

बॉलीवुड को करीब 5 दशक देने वाले अभिनेता अमिताभ बच्च्न का आज 76 वां जन्मदिन है। अमिताभ का सरनेम श्रीवास्तव था लेकिन उन्होंने इसे बदल कर बच्चन रख लिया, जो उनके पिता के पेन का नाम था।

अमिताभ बच्चन एक अभिनेता नहीं बल्कि एक इंजिनियर बबना चाहते थे। साथ ही वह भारतीय वायु सेना में जाना चाहते थे। लेकिन किस्मत ने उन्हें अभिनय की दुनिया में ला दिया और लोगों को सराखों पर भी बैठ गए।

अमिताभ बच्चन को ‘स्टार ऑफ द मिलेनियम’ की भी उपाधि दी गई। आज उनकी बेटी श्वेता नंदा पिता के जन्मदिन के मौके पर अपनी नोवेल ‘पैराडाइज टावर’ का विमोचन करेंगी।
अमिताभ ने अपनी पहली जॉब सिनेमा में नहीं बल्कि एक शिपिंग फॉर्म में की थी। इस जॉब के लिए उन्हें 500 रूपए भी मिले थे। लेकिन फिर वह बॉलीवुड की दुनिया में आ गए और उन्होंने बॉलीवुड को एक से बढ़कर एक फिल्में दी।

कभी अपनी मोटी आवाज के लिए आल इंडिया रेडियो से रिजेक्ट होने वाले अमिताभ ने दुनिया को अपनी आवाज से रूबरू कराया। आज वह अपने अभिनय और अपनी आवाज के दम पर लोगों के बीच जाने जाते हैं।

बता दें कि फिल्म ‘खुदा गवाह’ की शूटिंग अफगानिस्तान में हुई थी। इस शूटिंग के लिए अफगान के राष्ट्रपति ने अमिताभ की सुरक्षा के लिए अपनी सैनिकों की टुकड़ी लगा दी थी। साथ ही इस फिल्म को अफगानिस्तान में सुपरहिट हुई और लोगों से काफी प्यार भी मिला था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here